01 NOVEMBER – BABA KI MURLI KAI AAJ KAI MAHAVAKAYA

01-11-2019 प्रात:मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन

“मीठे बच्चे – अपने ऊपर पूरी नज़र रखो, कोई भी बेकायदे चलन नहीं चलना, श्रीमत का उल्लंघन करने से गिर जायेंगे”

प्रश्न: पद्मापद्मपति बनने के लिए कौन-सी खबरदारी चाहिए?

उत्तर: सदैव ध्यान रहे – जैसा कर्म हम करेंगे हमें देख और भी करने लगेंगे। किसी भी बात का मिथ्या अहंकार न आये। मुरली कभी भी मिस न हो। मन्सा-वाचा-कर्मणा अपनी सम्भाल रखो। यह आंखें धोखा न दें तो पद्मों की कमाई जमा कर सकेंगे। इसके लिए अन्तर्मुखी होकर बाप को याद करो और विकर्मों से बचे रहो।

धारणा के लिए मुख्य सार:

1) बाप की आज्ञा अनुसार हर कार्य करना है। कभी भी श्रीमत का उल्लंघन न हो तब ही सर्व मनोकामनायें बिना मांगे पूरी होंगी। ध्यान दीदार की इच्छा नहीं रखनी है, इच्छा मात्रम् अविद्या बनना है।

2) आपस में मिलकर झरमुई झगमुई (एक दूसरे का परचिंतन) नहीं करना है। अन्तर्मुख हो अपनी जांच करनी है कि हम बाबा की याद में कितना समय रहते हैं, ज्ञान का मंथन अन्दर चलता है?

वरदान: बिन्दी रूप में स्थित रह औरों को भी ड्रामा के बिन्दी की स्मृति दिलाने वाले विघ्न-विनाशक भव

जो बच्चे किसी भी बात में क्वेश्चन मार्क नहीं करते, सदा बिन्दी रूप में स्थित रह हर कार्य में औरों को भी ड्रामा की बिन्दी स्मृति में दिलाते हैं – उन्हें ही विघ्न-विनाशक कहा जाता है। वह औरों को भी समर्थ बनाकर सफलता की मंजिल के समीप ले आते हैं। वह हद की सफलता की प्राप्ति को देख खुश नहीं होते लेकिन बेहद के सफलतामूर्त होते हैं। सदा एक-रस, एक श्रेष्ठ स्थिति में स्थित रहते हैं। वह अपनी सफलता की स्व-स्थिति से असफलता को भी परिवर्तन कर देते हैं।

स्लोगन: दुआयें लो, दुआयें दो तो बहुत जल्दी मायाजीत बन जायेंगे।

OM SHANTI
PARWANO KA GROUP
(BRAHMA KUMARIS)

Essence: Sweet children, keep an eye on yourself fully. You should not do anything against the law. By disobeying shrimat you will fall.

Question: What precautions must you take in order to become a multimillionaire?

Answer: Let there always be this attention: Whatever I do, others who see me will do the same. You should not have any false arrogance. You should never miss the murli. Be careful about your thoughts, words and deeds; your eyes should not deceive you. You will then be able to accumulate an income of multimillions. To achieve this, you must remain introverted and remember the Father and you will then remain safe from all sinful acts.

Essence for Dharna:

1- Every act you perform must be according to the Father’s instructions. You must never disobey shrimat. Only then will all your desires be fulfilled without your asking for anything. You must not have any desire for trance or visions. Become ignorant of all desires.

2- You must not meet together and gossip. Become introverted and check yourself: For how long do I stay in remembrance of Baba? Do I churn this knowledge?

Blessing: May you be a destroyer of obstacles by remaining stable in the form of a point and reminding others to have awareness of the point of the drama.

The children who do not put a question mark in any situation, who remain stable in the form of a point and remind others of the point of the drama in every task are called destroyers of obstacles. They make others powerful and take them close to the destination of success. They do not become happy just seeing the attainment of some limited success, but are embodiments of unlimited success. They are constantly, stable and remain in an elevated stage. With their own stage of success, they transform any lack of success.

Slogan: Take blessings and give blessings and you will very quickly become a conqueror of Maya.

OM SHANTI
PARWANO KA GROUP
(BRAHMA KUMARIS)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *