04 DECEMBER – BABA KI MURLI KAI AAJ KAI MAHAVAKAYA

04/12/17 प्रात:मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन

”मीठे बच्चे :- सदा यह स्मृति में रहे कि हमारा यह अन्तिम 84 वाँ जन्म है, अब वापिस घर जाना है, फिर अपने राज्य में आना है”

प्रश्न: बाप पक्का सौदागर है, कैसे?

उत्तर: जो अभी साहूकार हैं, जिन्हें पैसे का नशा है, बाबा कहते हैं, तुम यहाँ की अपनी राजाई सम्भालो। उनका बाप स्वीकार नहीं करता है। गरीबों को ही बाबा ऊंच ते ऊंच बनाते हैं। गरीबों की पाई-पाई सफल कर उन्हें साहूकार बना देते इसलिए बाप को पक्का सौदागर कहा जाता है।

प्रश्न: बच्चों में कौन सी सुस्ती बिल्कुल नहीं होनी चाहिए?

उत्तर: कई बच्चे मुरली सुनने वा पढ़ने में सुस्ती करते हैं। मुरली मिस कर देते हैं। बाबा कहते हैं बच्चे इसमें सुस्त मत बनो। तुम्हें एक भी मुरली मिस नहीं करनी है।

धारणा के लिए मुख्य सार:

1) सभी को राज़ी करना है। मूडी दिमाग वाला नहीं बनना है। बहुत-बहुत मीठा बनना है। अच्छे मैनर्स सीखने और सिखलाने हैं।

2) हर कदम पर सुप्रीम सर्जन से राय लेनी है। श्रीमत पर चलते रहना है। सेन्सीबुल बन हर प्वाइंटस स्वयं में धारण करनी है।

वरदान: मर्यादा की लकीर के अन्दर सदा छत्रछाया की अनुभूति करने वाले मायाजीत, विजयी भव!

बाप की याद ही छत्रछाया है, जितना याद में रहते उतना साथ का अनुभव होता है। छत्रछाया में रहना अर्थात् सदा सेफ रहना। जो संकल्प से भी छत्रछाया से बाहर निकलते हैं उन पर माया का वार होता है। छत्रछाया के नीचे, मर्यादा की लकीर के अन्दर रहने से कोई की हिम्मत नहीं अन्दर आने की। लेकिन यदि लकीर से बाहर निकले तो माया है ही होशियार, इसलिए साथ के अनुभव से मायाजीत बनो।

स्लोगन: अशरीरी बनने का अभ्यास ही समाप्ति के समय को समीप लाने का आधार है।

OM SHANTI
PARWANO KA GROUP
(BRAHMA KUMARIS)

Essence: Sweet children, always remain aware that this is the last of your 84 births. You now have to return home and then go into your kingdom.

Question: How is the Father the true Businessman?

Answer: Baba says to those who are wealthy at this time and have the intoxication of their money: Look after your kingdom here! The Father doesn’t accept anything of theirs. It is the poor that Baba makes the highest on high. He uses every penny of the poor in a worthwhile way and makes them wealthy. This is why the Father is called the true Businessman.

Question: Which laziness should you children not have at all?

Answer: Some children are lazy in reading or listening to the murli; they miss the murli. Baba says: Children, don’t become lazy in this. You mustn’t miss a single murli.

Essence for Dharna:

1. Make everyone happy. Don’t become moody. Become very, very sweet. Learn and teach others good manners.

2. Take advice from the Supreme Surgeon at every step. Continue to follow shrimat. Become sensible and imbibe every point of knowledge.

Blessing: May you be a victorious soul and a conqueror of Maya and always experience being under the canopy of protection by staying within the line of the code of conduct.

Remembrance of the Father is the canopy of protection. To the extent that you stay in remembrance, you will accordingly experience His company. To stay under the canopy means to remain constantly safe. Those who step out from under the canopy even in their thoughts are attacked by Maya. By your staying under the canopy and within the line of the code of conduct, no one would have the courage to enter. However, if you step outside the line, Maya is very clever. Therefore, become a conqueror of Maya with the Father’s company.

Slogan: The practice of being bodiless is the basis of bringing the time of completion close.

OM SHANTI
PARWANO KA GROUP
(BRAHMA KUMARIS)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *