05 APRIL – BABA KI MURLI KAI AAJ KAI MAHAVAKAYA

05-04-2019 प्रात:मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन

”मीठे बच्चे – बाप का प्यार तो सभी बच्चों से है लेकिन जो बाप की राय को फौरन मान लेते हैं, उनकी कशिश होती है। गुणवान बच्चे प्यार खींचते हैं”

प्रश्नः-बाप ने कौन-सा कॉन्ट्रैक्ट उठाया है?

उत्तर:-सभी को गुलगुल (फूल) बनाकर वापस ले जाने का कॉन्ट्रैक्ट (ठेका) एक बाप का है। बाप जैसा कॉन्ट्रैक्टर दुनिया में और कोई नहीं। वही सर्व की सद्गति करने आते हैं। बाप सर्विस के बिगर रह नहीं सकते। तो बच्चों को भी सर्विस का सबूत देना है। सुना-अनसुना नहीं करना है।

धारणा के लिये मुख्य सार :-

1) रोज रात में पोतामेल देखना है कि अति मीठे बाबा को सारे दिन में कितना याद किया? अपना शो करने के लिए पोतामेल नहीं रखना है, गुप्त पुरुषार्थ करना है।

2) बाप जो सुनाते हैं, उस पर विचार सागर मंथन करना है, सर्विस का सबूत देना है। सुना अनसुना नहीं करना है। अन्दर कोई भी आसुरी अवगुण है तो उसे चेक करके निकालना है।

वरदान:- स्वार्थ, ईर्ष्या और चिड़चिड़पने से मुक्त रहने वाले क्रोधमुक्त भव

कोई भी विचार भले दो, सेवा के लिए स्वयं को आफर करो। लेकिन विचार के पीछे उस विचार को इच्छा के रूप में बदली नहीं करो। जब संकल्प इच्छा के रूप में बदलता है तब चिड़चिड़ापन आता है। लेकिन निस्वार्थ होकर विचार दो, स्वार्थ रखकर नहीं। मैने कहा तो होना ही चाहिए – यह नहीं सोचो, आफर करो, क्यों क्या में नहीं आओ, नहीं तो ईर्ष्या-घृणा एक एक साथी आते हैं। स्वार्थ या ईर्ष्या के कारण भी क्रोध पैदा होता है, अब इससे भी मुक्त बनो।

स्लोगन:- शान्ति दूत बन सबको शान्ति देना – यही आपका आक्यूपेशन है।

OM SHANTI
PARWANO KA GROUP
(BRAHMA KUMARIS)

Essence: Sweet children, the Father loves all the children, but those who instantly take the Father’s advice are pulled to the Father. Virtuous children draw the Father’s love.

Question: What contract has the Father made?

Answer: Only the one Father has made a contract to make everyone into a beautiful flower and take them back home. There is no other contractor in the whole world like the Father. He alone comes to grant everyone salvation. The Father cannot stay without doing service. So, you children also have to give the proof of your service. You mustn’t ignore what you have heard.

Essence for dharna:
1. Check your account every night: How long did I remember extremely sweet Baba throughout the whole day? Do not keep your account just to show off, but make incognito effort.

2. Churn the ocean of knowledge that the Father gives you and give the proof of your service. Do not ignore what you have heard. Check if there are any devilish traits in you and, if there are, remove them.

Blessing: May you be free from anger by also remaining free from selfishness, jealousy and irritation.

You may have some ideas and offer yourself for service, but do not let those ideas change into desires. When your thought changes into a desire, you then have irritation. Just offer your ideas altruistically, not with selfish motives. Do not think that because you said it, it has to happen. Offer yourself, but do not go into “Why?” or “What?”, because there are then the other companions in the form of jealousy and dislike. Anger also arises out of selfishness and jealousy, so now become free from them all.

Slogan: Your occupation is that of a messenger of peace and to give everyone peace.

OM SHANTI
PARWANO KA GROUP
(BRAHMA KUMARIS)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *