• 10 JANUARY – BABA KI MURLI KAI AAJ KAI MAHAVAKAYA

    10-01-17 प्रात:मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन
    मुरली सारः- “मीठे बच्चे – आधाकल्प से जो 5 विकारों की बीमारियाँ लगी हुई थी वह अब छूटी कि छूटी, इसलिए अपार खुशी में रहना है”

    प्रश्न:- तुम बच्चों को अब कौन सी एक हॉबी (शौक) रखना है, किन बातों से तुम्हारा तैलुक नहीं?
    उत्तर:- एक बाप से पूरा वर्सा लेने की हॉबी रखनी है। मनुष्यों को तो अनेक प्रकार की हॉबियाँ होती हैं। तुम्हें वह सब छोड़ देनी है। तुम ईश्वर के बच्चे बने हो, बाप के साथ वापिस जाना है इसलिए इस शरीर से तैलुक रखने वाली सब बातों को भूल जाना है। पेट को दो रोटी खिलानी है और बुद्धि नई दुनिया से लगानी है।

    गीत:- जिसका साथी है भगवान…
    धारणा के लिए मुख्य सार:-
    1) विजय माला में आने के लिए मम्मा बाबा के समान सर्विस करनी है। मुरली धारण कर फिर सुनानी है। चलन बड़ी रॉयल रखनी है।
    2) अपनी विशाल बुद्धि से इस बेहद ड्रामा को जान अपार खुशी में रहना है। तूफानों से डरना नहीं है। ज्ञान मंथन से बुद्धि को भरपूर रखना है।

    वरदान:- देह-अभिमान के अंशमात्र की भी बलि चढ़ाने वाले महाबलवान भव

    सबसे बड़ी कमजोरी है देह-अभिमान। देह-अभिमान का सूक्ष्म वंश बहुत बड़ा है। देह-अभिमान की बलि चढ़ाना अर्थात् अंश और वंश सहित समर्पित होना। ऐसे बलि चढ़ाने वाले ही महाबलवान बनते हैं। यदि देह अभिमान का कोई भी अंश छिपाकर रख लिया, अभिमान को ही स्वमान समझ लिया तो उसमें अल्पकाल की विजय भल दिखाई देगी लेकिन बहुतकाल की हार समाई हुई है।

    स्लोगन:- इच्छा नहीं थी लेकिन अच्छा लग गया-यह भी जीवनबंध स्थिति है।

    तपस्वी मूर्त बनो

    जैसे पहले-पहले नशा रहता था कि हम इस वृक्ष के ऊपर बैठकर सारे वृक्ष को देख रहे हैं, ऐसे परमधाम की ऊंची स्थिति में बैठकर नीचे पूरे ग्लोब को सकाश देने की सेवा करो। इससे तपस्या और सेवा दोनों कम्बाइन्ड और एक साथ रहेंगी।

    OM SHANTI
    PARWANO KA GROUP
    (BRAHMA KUMARIS)

    Essence: Sweet children, the illness of the five vices that you have had for half the cycle is now about to end. Therefore, stay in limitless happiness.

    Question: What one hobby should you children have and what should you have no connection with?
    Answer: Have the hobby of claiming your full inheritance from the Father. People have all types of hobbies. You now have to renounce all of those. You have become the children of God. You have to return home with the Father and you must, therefore, forget all the things that are connected with bodies. Just feed the stomach two chapattis and connect the intellect to the new world.

    Song: What can storms do to those whose Companion is God?
    Essence for dharna:
    1. In order to come into the rosary of victory, do service like Mama and Baba. Imbibe the murli and then relate it to others. Let your behaviour be very royal.
    2. Understand this unlimited drama with your broad and unlimited intellect and experience limitless happiness. Don’t be afraid of storms. Keep your intellect full by churning knowledge.

    Blessing: May you be greatly powerful and sacrifice any slightest trace of body consciousness.

    The biggest weakness is body consciousness. The subtle progeny of body consciousness is very big. To make the sacrifice of body consciousness means to surrender every trace, including its progeny. Only those who make such a sacrifice are said to be greatly powerful. If you have kept any trace of body consciousness hidden away and consider arrogance to be self-respect, then though you may see temporary victory, it will be merged in defeat for a long period of time.

    Slogan: To think that you had no desire for something but that you just liked it is also the stage of bondage in life.

    Be an image of tapasya:

    Initially, you used to have the intoxication that you were sitting at the top of the tree and watching the whole tree. Similarly, sit in the highest stage of the supreme abode and do the service of giving sakaash to the whole globe down below. When you do this, both tapasya and service will be combined and take place simultaneously.

    OM SHANTI
    PARWANO KA GROUP
    (BRAHMA KUMARIS)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *