• 11 JANUARY – BABA KI MURLI KAI AAJ KAI MAHAVAKAYA

    11-01-17 प्रात:मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन
    मुरली सारः- “मीठे बच्चे – 21 जन्मों के लिए सदा सुखी बनने के लिए इस थोड़े समय में देही-अभिमानी बनने की आदत डालो”

    प्रश्न:- दैवी राजधानी स्थापन करने के लिए हर एक को कौन सा शौक होना चाहिए?
    उत्तर:- सर्विस का। ज्ञान रत्नों का दान कैसे करें, यह शौक रखो। तुम्हारी यह मिशन है – पतितों को पावन बनाने की इसलिए बच्चों को राजाई की वृद्धि करने के लिए खूब सर्विस करनी है। जहाँ भी मेले आदि लगते हैं, लोग स्नान करने जाते हैं वहाँ पर्चे छपाकर बांटने हैं। ढिंढोरा पिटवाना है।

    गीत:- तुम्हें पाकर हमने जहाँ पा लिया है…
    धारणा के लिए मुख्य सार:-
    1) देह-अभिमान की कड़ियां (जंजीर) काट देही-अभिमानी बनना है। सोल कान्सेस रहने का संस्कार डालना है।
    2) सर्विस का बहुत शौक रखना है। बाप समान पतित से पावन बनाने की सेवा करनी है। सच्चा हीरा बनना है।

    वरदान:- श्रेष्ठ और शुभ वृत्ति द्वारा वाणी और कर्म को श्रेष्ठ बनाने वाले विश्व परिवर्तक भव

    जो बच्चे अपनी कमजोर वृत्तियों को मिटाकर शुभ और श्रेष्ठ वृत्ति धारण करने का व्रत लेते हैं, उन्हें यह सृष्टि भी श्रेष्ठ नजर आती है। वृत्ति से दृष्टि और कृत्ति का भी कनेक्शन है। कोई भी अच्छी वा बुरी बात पहले वृत्ति में धारण होती है फिर वाणी और कर्म में आती है। वृत्ति श्रेष्ठ होना माना वाणी और कर्म स्वत: श्रेष्ठ होना। वृत्ति से ही वायब्रेशन, वायुमण्डल बनता है। श्रेष्ठ वृत्ति का व्रत धारण करने वाले विश्व परिवर्तक स्वत: बन जाते हैं।

    स्लोगन:- विदेही वा अशरीरी बनने का अभ्यास करो तो किसी के भी मन के भाव को जान लेंगे।

    तपस्वी मूर्त बनो

    समय की समीपता प्रमाण अभी सच्चे तपस्वी बनो। आपकी सच्ची तपस्या वा साधना है ही बेहद का वैराग्य। अभी बेहद के वैराग्य वृत्ति द्वारा चारों ओर तपस्या का वायुमण्डल बनाओ। आपकी तपस्या मन्सा सेवा के निमित्त बनें।

    OM SHANTI
    PARWANO KA GROUP
    (BRAHMA KUMARIS)

    Essence: Sweet children, in order to be constantly happy for 21 births, instil the habit of being soul conscious for this short time.

    Question: What interest should each one of you have in order to establish the deity kingdom?
    Answer: An interest in doing service. Have an interest in how to donate the jewels of knowledge. Your mission is to make impure ones pure. Therefore, in order to make your kingdom expand, you children have to do a lot of service. Wherever fairs etc. take place and wherever people go to bathe, take printed leaflets and distribute them there. Beat the drums there.

    Song: Having found You, we have found the world. The earth, the sky all belong to us.

    Essence for dharna:
    1. Cut away the chains of body consciousness and become soul conscious. Create the sanskars of remaining soul conscious.
    2. Have a lot of interest in doing service. Do the service of making impure ones pure in the same way as the Father does. Become a true diamond.

    Blessing: May you be a world transformer who makes your words and deeds elevated with a pure and elevated attitude.

    The children who finish their weak attitude and make a vow to have a pure and elevated attitude also see this world as elevated. One’s vision and deeds are connected with one’s attitude. Anything good or bad first enters your attitude and it is then put into your words and deeds. To have an elevated attitude means that your words and deeds are automatically elevated. Vibrations and the atmosphere are created by your attitude. Those who make a vow to have an elevated attitude automatically become world transformers.

    Slogan: Practise being bodiless, without a body, and you will be able to know the feelings in anyone’s mind.

    Be an image of tapasya:

    According to the closeness of time, become a true tapaswi. Your true tapasya or spiritual endeavour is unlimited disinterest. Now, with an attitude of unlimited disinterest, create an atmosphere of tapasya everywhere. Let your tapasya become instrumental for serving through the mind.

    OM SHANTI
    PARWANO KA GROUP
    (BRAHMA KUMARIS)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *