• 12 JANUARY – BABA KI MURLI KAI AAJ KAI MAHAVAKAYA

    12-01-17 प्रात:मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन
    मुरली सारः- `मीठे बच्चे – यह तुम्हारी वानप्रस्थ अवस्था है इसलिए एक बाप को याद करना है, निर्वाणधाम में चलने की तैयारी करनी है”

    प्रश्न:- बाप के पास किस बात का भेद नहीं है?
    उत्तर:- गरीब व साहूकार का। हर एक को पुरूषार्थ से अपना ऊंच पद पाने का अधिकार है। आगे चल सबको अपने पद का साक्षात्कार होगा। बाबा कहते हैं मैं हूँ गरीब निवाज इसलिए अभी गरीब बच्चों की सब आशायें पूरी होती हैं। यह अन्तिम समय है। किसकी दबी रहेगी धूल में….. जो बाप को इनश्योर करते हैं, उनका सफल होता है।

    गीत:- आखिर वह दिन आया आज….
    धारणा के लिए मुख्य सार:-

    1) माया के तूफानों को पार करते हुए बाप से पूरा-पूरा वर्सा लेना है। मात-पिता की आज्ञाओं को अमल में लाना है।
    2) पुरानी दुनिया को भूल नई दुनिया को याद करना है। मौत के पहले बाप के पास स्वयं को इनश्योर कर देना है।

    वरदान:- समर्पण भाव से सेवा करते सफलता प्राप्त करने वाले सच्चे सेवाधारी भव

    सच्चे सेवाधारी वह हैं जो समर्पण भाव से सेवा करते हैं। सेवा में जरा भी मेरे पन का भाव न हो। जहाँ मेरा पन है वहाँ सफलता नहीं। जब कोई यह समझ लेते हैं कि यह मेरा काम है, मेरा विचार है, यह मेरी फर्ज-अदाई है-तो यह मेरापन आना अर्थात् मोह उत्पन्न होना। लेकिन कहाँ भी रहते सदा स्मृति रहे कि मैं निमित्त हूँ, यह मेरा घर नहीं लेकिन सेवा-स्थान है तो समर्पण भाव से निर्माण और नष्टोमोहा बन सफलता को प्राप्त कर लेंगे।

    स्लोगन:- सदा अपने स्वमान की सीट पर रहो तो सर्व शक्तियां आर्डर मानती रहेंगी।

    तपस्वी मूर्त बनो

    तपस्वी मूर्त का अर्थ है – तपस्या द्वारा शान्ति के शक्ति की किरणें चारों ओर फैलती हुई अनुभव में आयें। यह तपस्वी स्वरूप औरों को देने का स्वरूप है। जैसे सूर्य विश्व को रोशनी की और अनेक विनाशी प्राप्तियों की अनुभूति कराता है, ऐसे महान तपस्वी आत्मायें, मास्टर ज्ञान सूर्य बन शक्तिशाली किरणों की अनुभूति कराओ।

    OM SHANTI
    PARWANO KA GROUP
    (BRAHMA KUMARIS)

    Essence: Sweet children, it is now your stage of retirement. Therefore, remember the one Father, and make preparations to go to the land beyond sound (nirvana).

    Question: Who does the Father not discriminate between?
    Answer: He doesn’t discriminate between the poor and the wealthy. Each one of you has the right to claim a high status on the basis of the effort you make. As you progress further, each of you will have a vision of your status. Baba says: I am the Lord of the Poor and this is why all the desires of the poor children become fulfilled. This is the final period. Some people’s wealth will remain buried underground, some will be looted by the Government. Those who insure everything with the Father make everything they have worthwhile.

    Song: At last the day for which we had been waiting has come!
    Essence for dharna:
    1. While overcoming the storms of Maya, claim your full inheritance from the Father. Put the directions of the Mother and Father into practice.
    2. Forget the old world and remember the new world. Insure yourself with the Father before death.

    Blessing: May you be a true server who serves with a feeling of surrender and thereby achieves success.

    A true server is one who serves with a feeling of surrender. Let there not be the slightest consciousness of “mine” in service. There cannot be success where there is any consciousness of “mine”. When someone thinks: “This is my work, my idea, my duty”, that consciousness of “mine” creates attachment. However, while living anywhere, let there always be this awareness: “I am an instrument, this is not my home, but a service place”. Then, with this feeling of surrender, you will be humble and free from attachment and achieve success.

    Slogan: Remain constantly on your seat of self-respect and all powers will continue to obey your orders.

    Be an image of tapasya:
    An image of tapasya means to experience rays of the power of peace spreading everywhere through your tapasya. The tapaswi form is the form of giving to others. Just as the sun gives the experience of light and many other perishable attainments to the world, so become great tapaswi souls, master suns of knowledge and give the experience of powerful rays.

    OM SHANTI
    PARWANO KA GROUP
    (BRAHMA KUMARIS)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *