18 JULY – BABA KI MURLI KAI AAJ KAI MAHAVAKAYA

18-07-2018 प्रात:मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन

“मीठे बच्चे :- तुम बाप को याद करो, यही याद विश्व के लिए योगदान है, इसी से विश्व पावन बनेगा, बेड़ा पार हो जायेगा”

प्रश्नः- किन बच्चों की सम्भाल अन्त समय में स्वयं बापदादा करते हैं?

उत्तर:- जो बच्चे बहुत समय से कांटों को फूल बनाने की सर्विस में तत्पर रहते हैं। बाप के पूरे-पूरे मददगार हैं, ऐसे बच्चों की अन्त समय में बाप स्वयं सम्भाल करते हैं। बाबा कहते – मैं अपने मददगार बच्चों को वन्डरफुल सीन-सीनरियां दिखलाकर खूब बहलाऊंगा। वह अन्त में बहुत सुख देखेंगे। साक्षात्कार करते रहेंगे। 2- जिन्हें “एक बाप दूसरा न कोई” यह पाठ पक्का है, ऐसे बच्चों को ही बाप की मदद मिलती है।

गीत:- प्रीतम आन मिलो…….. 

धारणा के लिए मुख्य सार:-

1) बाप की याद में रहना है और सबको याद दिलाना है, यही दान करते रहना है। बाप पर बलि चढ़कर फिर ट्रस्टी हो सम्भालना है।

2) साक्षी हो हरेक एक्टर का पार्ट देखना है। हम पार्ट पूरा कर खुशी से वापस जा रहे हैं – इस स्मृति में सदा रहना है।

वरदान:- अपने मस्तक पर श्रेष्ठ भाग्य की लकीर देखते हुए सर्व चिंताओं से मुक्त बेफिक्र बादशाह भव

बेफिक्र रहने की बादशाही सब बादशाहियों से श्रेष्ठ है। अगर कोई ताज पहनकर तख्त पर बैठ जाए और फिकर करता रहे तो यह तख्त हुआ या चिंता? भाग्य विधाता भगवान ने आपके मस्तक पर श्रेष्ठ भाग्य की लकीर खींच दी, बेफिक्र बादशाह हो गये। तो सदा अपने मस्तक पर श्रेष्ठ भाग्य की लकीर देखते रहो – वाह मेरा श्रेष्ठ ईश्वरीय भाग्य, इसी फ़खुर में रहो तो सब फिकरातें (चिंतायें) समाप्त हो जायेंगी।

स्लोगन:- एकाग्रता की शक्ति द्वारा रूहों का आवाह्न कर रूहानी सेवा करना ही सच्ची सेवा है।

OM SHANTI
PARWANO KA GROUP
(BRAHMA KUMARIS)
Essence: Sweet children, remember the Father. This remembrance is the donation of yoga to the world. The world will become pure through this and your boat will go across.

Question: Which children are looked after by BapDada Himself in the final moments?

Answer: 1) The children who remain engaged in the service of changing thorns into flowers over a long period of time and who are full helpers of the Father are looked after by the Father Himself in the final moments. Baba says: I will show My helpful children wonderful scenes and scenery and entertain them a great deal. They will see a lot of happiness at the end and continue to have visions. 2) Only the children who have made firm the lesson of belonging to the one Father and none other, will receive the Father’s help.

Song:O Beloved, come and meet me! 

Essence for Dharna:

  1. Stay in remembrance of the Father and remind everyone of Baba. Continue to make this donation. Surrender yourself to the Father and look after everything as a trustee.
  2. Watch as a detached observer the part of every actor. Constantly maintain the awareness that you are completing your part and returning home in happiness.

Blessing: May you be a carefree emperor who is free from all worries because you can see the line of elevated fortune on your forehead.

The sovereignty of being carefree is the most elevated sovereignty of all sovereignties. If someone wears a crown and sits on a throne but constantly worries, then, is that a throne or worry? God, the Bestower of Fortune, has drawn the line of elevated fortune on your forehead and so you have become a carefree emperor. So, constantly see the line of elevated fortune on your forehead: Wah my elevated Godly fortune! Keep this spiritual intoxication and all worries will finish.

Slogan: To invoke souls with the power of concentration and do spiritual service is true service.

OM SHANTI
PARWANO KA GROUP
(BRAHMA KUMARIS)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *