• 28 MAR. – BABA KI MURLI KAI AAJ KAI MAHAVAKAYA

    28-03-16 प्रातः मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन

    “मीठे-मीठे सर्विसएबुल बच्चे – ऐसा कोई भी काम नहीं करना जिससे सर्विस में कोई भी विघ्न पड़े”

    प्रश्न: संगमयुग पर तुम बच्चों को बिल्कुल एक्यूरेट बनना है, एक्यूरेट कौन बन सकते हैं?

    उत्तर: जो सच्चे बाप के साथ सदा सच्चे रहते हैं, अन्दर एक, बाहर दूसरा – ऐसा न हो। 2- जो शिवबाबा के सिवाए और बातों में नहीं जाते हैं। 3- हर कदम श्रीमत पर चलते हैं, कोई भी गफ़लत नहीं करते, वही एक्यूरेट बनते हैं।

    गीत:-बचपन के दिन भुला न देना……

    धारणा के लिए मुख्य सार:

    1) अन्दर बाहर सच्चा रहना है। पढ़ाई में कभी भी गफ़लत नहीं करना है। कभी भी संशय बुद्धि बन पढ़ाई नहीं छोड़नी है। सर्विस में विघ्न रूप नहीं बनना है।

    2) सबको यही खुशखबरी सुनाओ कि हम पवित्रता के बल से, श्रीमत पर अपने तन-मन-धन के सहयोग से 21 जन्मों के लिए भारत को श्रेष्ठाचारी डबल सिरताज बनाने की सेवा कर रहे हैं।

    वरदान: अपने एकाग्र स्वरूप द्वारा सूक्ष्म शक्ति की लीलाओं का अनुभव करने वाले अन्तर्मुखी भव!

    एकाग्रता का आधार अन्तर्मुखता है। जो अन्तर्मुखी हैं वे अन्दर ही अन्दर सूक्ष्म शक्ति की लीलाओं का अनुभव करते हैं। आत्माओं का आह्वान करना, आत्माओं से रूहरिहान करना, आत्माओं के संस्कार स्वभाव को परिवर्तन करना, बाप से कनेक्शन जुड़वाना-ऐसे रूहों की दुनिया में रूहानी सेवा करने के लिए एकाग्रता की शक्ति को बढ़ाओ, इससे सर्व प्रकार के विघ्न स्वत: समाप्त हो जायेंगे।

    स्लोगन: सर्व प्राप्तियों को स्वयं में धारण कर विश्व की स्टेज पर प्रत्यक्ष होना ही प्रत्यक्षता का आधार है।

    OM SHANTI
    PARWANO KA GROUP
    (BRAHMA KUMARIS)

    Essence: Sweetest, serviceable children, don’t perform such actions that they would cause obstacles in service.

    Question: At the confluence age, children have to become completely accurate. Which children can become accurate?

    Answer: The children who remain constantly honest with the true Father can become accurate. It should not be that you are one thing internally and something else externally. 2. Those who don’t involve themselves in anything other than Shiv Baba. 3. Those who follow shrimat at every step and don’t make any mistakes can become accurate.

    Song: Don’t forget the days of your childhood!

    Essence for Dharna:

    1. Remain honest inside and out. Never become careless about your study. Never have a doubtful intellect and stop studying. Don’t become an obstacle in service.
    2. Tell everyone the good news that we are serving Bharat to make it elevated and double- crowned by following shrimat and helping with our own bodies, minds and money for 21 births, with the power of purity.

    Blessing: May you be introverted and experience the divine games of your subtle powers through your concentrated form.

    The basis of concentration is introversion. Those who are introverted experience the divine games of the subtle powers within themselves. To invoke souls, to have a heart-to-heart conversation with souls, to transform the nature and sanskars of souls, to enable souls to forge a connection with the Father: in order to serve souls in the spiritual world in this way, increase the power of concentration for by your doing this, all types of obstacles will automatically finish.

    Slogan:The basis of revelation is for you yourself to imbibe all attainments and be revealed on the world stage.

    OM SHANTI
    PARWANO KA GROUP
    (BRAHMA KUMARIS)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *