30 OCTOBER – BABA KI MURLI KAI AAJ KAI MAHAVAKAYA

30-10-2019 प्रात:मुरली ओम् शान्ति “बापदादा” मधुबन

“मीठे बच्चे – एक बाप की याद में रहना ही अव्यभिचारी याद है, इस याद से तुम्हारे पाप कट सकते हैं”

प्रश्न: बाप जो समझाते हैं उसे कोई सहज मान लेते, कोई मुश्किल समझते – इसका कारण क्या है?

उत्तर: जिन बच्चों ने बहुत समय भक्ति की है, आधाकल्प से पुराने भक्त हैं, वह बाप की हर बात को सहज मान लेते हैं क्योंकि उन्हें भक्ति का फल मिलता है। जो पुराने भक्त नहीं उन्हें हर बात समझने में मुश्किल लगता। दूसरे धर्म वाले तो इस ज्ञान को समझ भी नहीं सकते।

धारणा के लिए मुख्य सार:

1) इस अनादि अविनाशी बने-बनाये ड्रामा में हरेक के पार्ट को देही-अभिमानी बन, साक्षी होकर देखना है। अपने स्वीट होम और स्वीट राजधानी को याद करना है, इस पुरानी दुनिया को बुद्धि से भूल जाना है।

2) माया से हारना नहीं है। याद की अग्नि से पापों का नाश कर आत्मा को पावन बनाने का पुरू-षार्थ करना है।

वरदान: हद के नाज़-नखरों से निकल रूहानी नाज़ में रहने वाले प्रीत बुद्धि भव

कई बच्चे हद के स्वभाव, संस्कार के नाज़-नखरे बहुत करते हैं। जहाँ मेरा स्वभाव, मेरे संस्कार यह शब्द आता है वहाँ ऐसे नाज़ नखरे शुरू हो जाते हैं। यह मेरा शब्द ही फेरे में लाता है। लेकिन जो बाप से भिन्न है वह मेरा है ही नहीं। मेरा स्वभाव बाप के स्वभाव से भिन्न हो नहीं सकता, इसलिए हद के नाज़ नखरे से निकल रूहानी नाज़ में रहो। प्रीत बुद्धि बन मोहब्बत की प्रीत के नखरे भल करो।

स्लोगन: बाप से, सेवा से और परिवार से मुहब्बत है तो मेहनत से छूट जायेंगे।

OM SHANTI
PARWANO KA GROUP
(BRAHMA KUMARIS)

Essence: Sweet children, to stay in remembrance of the one Father alone is to have unadulterated remembrance. It is by having this remembrance that your sins can be cut away.

Question: What is the reason why some people are easily able to accept the things that the Father explains whereas others find it difficult?

Answer: The children who have performed devotion for a long time, who have been the old devotees of half the cycle, are easily able to accept everything that the Father says because they receive the fruit of their devotion. Those who are not old devotees find it difficult to understand everything. Those of other religions are not even able to understand this knowledge.

Essence for Dharna:

1- Become soul conscious and watch each one’s part as a detached observer in this eternally, imperishable, predestined drama. Remember your sweet home and your sweet kingdom. Remove this old world from your intellect.

2- Do not be defeated by Maya. You souls must make effort to become pure by burning your sins away in the fire of remembrance.

Blessing: May you have a loving intellect and stay in spiritual pleasure by moving away from childish, mischievous behaviour.

Some children behave in a childish, mischievous manner due to their limited nature and sanskars. When it comes to “my nature” or “my sanskars”, they begin to behave in a childish, mischievous manner. This word “mine” (mera) puts you into a spin (fera). However, that which is different from the Father is not “mine”. My nature cannot be different from the Father’s nature. Therefore, move away from behaving in a childish, mischievous manner in a limited way and stay in spiritual pleasure. Have a loving intellect and you may behave in a playful manner out of love.

Slogan: When you have love for the Father, for service and the family, you will be liberated from making effort.

OM SHANTI
PARWANO KA GROUP
(BRAHMA KUMARIS)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *